आर्मी में अफसर कैसे बने। Indian army officer Entry scheme detail

आर्मी में अफसर कैसे बने। Indian army officer Entry scheme detail

November 23, 2018 0 By Admin




इंडियन आर्मी भारतीय जवानों को सेना में कैरियर बनाने का बेहतरीन मौका प्रदान करती है। इंडियन आर्मी में मुख्य रूप से दो प्रकार से जॉइन किया जा सकता है सोल्जर रिक्रूटमेंट के द्वारा तथा आर्मी अफसर एंट्री स्कीम के द्वारा। सोल्जर रिक्रूटमेंट के द्वारा इंडियन आर्मी जॉइन करने का तरीका, एलिजिबिलिटी, टेस्ट बिल्कुल अलग है और आज हम इस पोस्ट में इंडियन आर्मी अफसर एंट्री स्कीम के बारे में बात करेंगे इंडियन आर्मी में दो प्रकार के कमीशन होते है Short service commission तथा Permanent Commission

इंडियन आर्मी अफसर एंट्री स्कीम

परमानेंट कमीशन

1. नेशनल डिफेंस अकेडमी (NDA) एंट्री स्कीम

NDA एंट्री स्कीम के द्वारा केवल इंडियन आर्मी में ही नही बल्कि तीनो सेनाओं इंडियन आर्मी, नेवी तथा एयरफोर्स को जॉइन किया जा सकता है। NDA एंट्री स्कीम के लिए कैंडिडेट 12th क्लास के दौरान ही अप्लाई कर सकते है तथा UPSC ( यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन ) द्वारा आयोजित लिखित परीक्षा को पास करना होता है। लिखित परीक्षा में पास कैंडिडेट को SSB (सर्विस सिलेक्शन बोर्ड) इंटरव्यू को पास करना होता है जो कि 5 दिन का एक पर्सनालिटी इवैल्यूएशन टेस्ट होता है। NDA एंट्री के जरिये सिलेक्टेड कैंडिडेट को NDA (नेशनल डिफेंस अकेडमी) में 3 वर्ष की ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है तथा इसी पीरियड के दौरान कैंडिडेट को ग्रेजुएशन भी कराई जाती है। NDA में ट्रेनिंग के पश्चात कडेट को IMA देहरादून (आर्मी), इंडियन नेवल अकेडमी ज़हीमल, कन्नूर ( नेवी) तथा एयरफोर्स अकेडमी हैदराबाद में भेज दिया जाता है

आर्मी में अफसर कैसे बने

इन तीनो अकेडमी में आर्मी, नेवी, एयरफोर्स की ट्रेनिंग एक वर्ष के लिए करवाई जाती है। NDA एग्जाम वर्ष में दो बार UPSC द्वारा आयोजित किया जाता है।

2. टेक्निकल एंट्री स्कीम ( TES)

NDA एंट्री की तरह यह एंट्री स्कीम भी 12वी के आधार पर होती है। NDA में आर्ट्स, कॉमर्स तथा साइंस तीनो स्ट्रीम के स्टूडेंट्स अप्लाई कर सकते है परन्तु टेक्निकल एंट्री स्कीम में फिजिक्स, केमिस्ट्री तथा मैथमेटिक्स होना अनिवार्य है तथा तीनो सब्जेक्ट्स में एग्रीगेट 70% मार्क्स होने चाहिए। TES के लिए कोई भी एग्जामिनेशन कंडक्ट नही किया जाता है 12वी कक्षा के मार्क्स के आधार पर कट ऑफ रिक्रूटमेंट बोर्ड द्वारा निर्धारित की जाती है तथा कट ऑफ में आने वाले कैंडिडेट को SSB इंटरव्यू के लिए कॉल लेटर भेजा जाता है। SSB इंटरव्यू तथा मेडिकल फिट कैंडिडेट को मेरिट लिस्ट के आधार पर सेलेक्ट किया जाता है।



TES की ट्रेनिंग 5 वर्ष की होती है जिसमे शुरू में एक वर्ष की बेसिक मिलिट्री ट्रेनिंग, अफसर ट्रेनिंग अकेडमी (OTA) गया में होती है। इसके पश्चात 3 वर्ष की टेक्निकल ट्रेनिंग होती है जिसमे कडेट को इंजीनियरिंग डिग्री भी मिलती है। 3 वर्ष की टेक्निकल ट्रेनिंग कम्पलीट होने के बाद 1 वर्ष की ट्रेनिंग CME पुणे, MCTE महौ तथा MCEME सिकन्द्राबाद में होती है।

3. Combined Defence Services Examination

CDSE एंट्री में अप्लाई करने के लिए कैंडिडेट के पास ग्रेजुएशन डिग्री होना अनिवार्य है, ग्रेजुएशन में फाइनल ईयर के स्टूडेंट भी CDS एंट्री के लिए अप्लाई कर सकते है। CDS एंट्री में अप्लाई करने वाले कैंडिडेट केवल आर्मी में ही जाते है। NDA की तरह CDS का एग्जाम भी UPSC द्वारा वर्ष मे दो बार आयोजित किया जाता है तथा लिखित परीक्षा, SSB इंटरव्यू पास तथा मेडिकल फिट कैंडिडेट को मेरिट के आधार पर सेलेक्ट किया जाता है। CDSE एंट्री कैंडिडेट्स की ट्रेनिंग IMA देहरादून में 18 महीने होती है तथा पासिंग आउट परेड (POP) से पहले जेंटलमैन कडेट को आर्म्स तथा सर्विसेज अलॉट कर दी जाती है।

4. टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स (TGC) एंट्री

यह एंट्री स्कीम भी ग्रेजुएशन के आधार पर होती है। जिन छात्रों ने BE( Bachelor of Engineering) तथा B. Tech (Bachelor of Technology) कम्पलीट कर लिया है या BE तथा B Tech के फाइनल ईयर के स्टूडेंट है वो TGC के लिए अप्लाई कर सकते है। TGC एंट्री नोटिफिकेशन भी वर्ष में दो बार नवम्बर – दिसंबर तथा मई – जून में निकलते है। TGC एंट्री कैंडिडेट को भी सर्विस सिलेक्शन बोर्ड इंटरव्यू पास करना होता है और TGC एंट्री कैंडिडेट की ट्रेनिंग IMA देहरादून में एक वर्ष की होती है तथा उसके बाद उन्हें लेफ्टिनेंट के रैंक पर कमीशन किया जाता है।

5. AEC Men

AEC Men एंट्री में केवल वही कैंडिडेट अप्लाई कर सकते है जिन्होंने MA, M.COM, M.Sc, MBA, MCA फर्स्ट डिवीज़न या सेकंड डिवीज़न से पास किया है नोटिफिकेशन में आपको एजुकेशन से सम्बंधित पूरी जानकारी मिलेगी। इस एंट्री स्कीम में फाइनल ईयर में स्टडी कर रहे कैंडिडेट अप्लाई नही कर सकते है। AEC Men एंट्री स्कीम की ट्रेनिंग भी 1 वर्ष की होती है जो कि IMA देहरादून में होती है। IMA देहरादून में रिपोर्टिंग के पश्चात कैंडिडेट को शार्ट सर्विस कमीशन के आधार पर ट्रेनिंग कराई जाती है। ट्रेनिंग के सफलतापूर्वक समाप्त होने पर परमानेंट कमीशन दिया जाता है। कैंडिडेट को ट्रेनिंग के समय से ही लेफ्टिनेंट रैंक की सैलरी लागू हो जाती है जो कि ट्रेनिंग कम्पलीट होने के पश्चात इकट्ठा मिलती है।

Short Service Commission (SSC)

इंडियन आर्मी में शार्ट सर्विस कमीशन के लिए अलग एंट्री स्कीम है। शार्ट सर्विस कमीशन के अंतर्गत जॉइन किये हुए अफसर 10 वर्ष तक सर्विस कर सकते है इसके पश्चात या तो उन्हें 4 वर्ष के लिए सर्विस बढ़ानी होती है या फिर परमानेंट कमीशन लेना होता है। अब बात करते है Short Service Commission एंट्री स्कीम के बारे में।

1. Short Service Commission (Technical)

यह शार्ट सर्विस कमीशन मेन तथा वीमेन दोनो के लिए है। इस एंट्री के लिए कोई भी लिखित परीक्षा नही होती है। इस एंट्री में इंजीनियरिंग मार्क्स के आधार पर कट ऑफ जारी की जाती है तथा कट ऑफ लिस्ट में आने वाले कैंडिडेट को SSB इंटरव्यू के लिए कॉल लेटर भेजा जाता है तथा SSB इंटरव्यू ओर मेडिकल टेस्ट पास कैंडिडेट की मेरिट लिस्ट तैयार की जाती है। सिलेक्टेड कैंडिडेट की OTA (Officer Training Academy) चेन्नई में ट्रेनिंग होती है ट्रेनिंग 49 सप्ताह की होती है या लगभग 11 महीने की होती है। Short service commission के लिए आप वर्ष में दो बार जनवरी तथा जुलाई में अप्लाई कर सकते है।

Officer training academy

2. Short Service Commission (Non Technical)

SSC Non Technical एंट्री के लिए भी वर्ष में दो बार जुलाई तथा नवंबर में नोटिफिकेशन निकलता है परन्तु इस एंट्री के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन किया जाता है। लिखित परीक्षा में पास कैंडिडेट को SSB के लिए बुलाया जाता है तथा टेक्निकल एंट्री की तरह SSB पास तथा मेडिकल टेस्ट में फिट होने वाले कैंडिडेट को ही मेरिट लिस्ट के आधार पर सेलेक्ट किया जाता है। इस एंट्री की ट्रेनिंग भी OTA चेन्नई में होती है तथा ट्रेनिंग की अवधि भी समान होती है।


3. NCC Entry Scheme

इंडियन आर्मी अफसर की इस एंट्री स्कीम में केवल वही कैंडिडेट अप्लाई कर सकते है जिन्होंने NCC सीनियर डिवीज़न में NCC C सर्टिफिकेट B ग्रेड के साथ पास किया हो। इस एंट्री स्कीम का नोटिफिकेशन भी जून तथा दिसंबर में निकलता है। इस एंट्री स्कीम में जिस आर्मी यूनिट के द्वारा कैंडिडेट को NCC C सर्टिफिकेट जारी किया गया है उसी यूनिट के माध्यम से अप्लाई किया जा सकता है। इस एंट्री स्कीम में भी कैंडिडेट को SSB इंटरव्यू पास करना होता है।

4. शार्ट सर्विस कमीशन (JAG Entry)

इंडियन आर्मी की इस एंट्री स्कीम में केवल law graduate (LLB) डिग्री होल्डर ही कर सकते है। JAG एंट्री में अप्लाई करने के लिए कैंडिडेट के LLB में कम से कम 55% मार्क्स होने अनिवार्य है। कैंडिडेट के पास इंडियन बार कौंसिल या स्टेट बार कौंसिल में रजिस्ट्रेशन की योग्यता होना आवश्यक है। इस एंट्री स्कीम में जून तथा दिसंबर में अप्लाई किया जा सकता है तथा एप्लीकेशन ऑनलाइन सबमिट करनी होती है।


5. AFMC एंट्री स्कीम

इंडियन आर्मी अफसर की यह केवल एक ऐसी एंट्री स्कीम है जिसमे कैंडिडेट को SSB इंटरव्यू नही देना होता है। इस एंट्री स्कीम में अप्लाई करने के लिए कैंडिडेट के पास फिजिक्स, केमिस्ट्री तथा बायोलॉजी होना आवश्यक है। इस एंट्री स्कीम में कैंडिडेट को लिखित परीक्षा के आधार पर सेलेक्ट किया जाता है तथा सिलेक्टेड कैंडिडेट की ट्रेनिंग AFMC (Armed Forces Medical College) पुणे में होती है। ट्रेनिंग की अवधि 4 वर्ष होती है तथा AFMC के जरिये सिलेक्टेड कैंडिडेट तीनो सेना आर्मी, नेवी तथा एयरफोर्स जॉइन कर सकते है। ट्रेनिंग के बाद कैंडिडेट को MBBS की डिग्री भी प्रदान की जाती है तथा कैंडिडेट सेना में डॉक्टर के पद पर काम करते है।

यह थी इंडियन आर्मी में अफसर कैसे बने, की सम्पूर्ण जानकारी। यदि आपको इससे सम्बंधित अन्य जानकारी चाहिए तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है और यदि पोस्ट अच्छी लगी हो तो शेयर जरूर करे।

जय हिंद जय भारत

Share with friends
  • 64
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    64
    Shares